ध्वनि वर्जित क्षेत्र (साइलेंट जोन)

आखिरी अपडेट Aug 24, 2022

अस्पतालों और शैक्षणिक संस्थानों के आसपास के 100 मीटर के भीतर का क्षेत्र, और अदालतों के प्रांगण साइलेंट जोन में आते हैं। साइलेंट जोन में आप निम्नलिखित कार्य नहीं कर सकते:

• किसी भी प्रकार का संगीत (या गाना) बजाना

• किसी माईक या लाउडस्पीकर का प्रयोग करना

• किसी प्रकार का साउंड एम्पलीफायर बजाना

• कोई ड्रम या टॉम-टॉम बजाना

• म्युज़िकल या किसी प्रकार का प्रेशर हॉर्न बजाना, या तुरही बजाना या ढिंढोरा पीटना या

• किसी भी प्रकार का वाद्य यंत्र बजाना, या

• भीड़ को आकर्षित करने के लिए किसी भी तरह का नकल (या मिमिकरी) करना, गाना/संगीत या अन्य किसी प्रकार का प्रदर्शन करना।

रात में शोर करना

साइलेंट ज़ोन और आवासीय क्षेत्रों में आप रात के समय (रात्रि 10.00 बजे से सुबह 6.00 बजे के बीच) ध्वनि प्रदूषण या शोरगुल नहीं कर सकते:निम्न चीजों की मनाही है

• आपात स्थिति को छोड़कर हॉर्न का उपयोग मना है।

• बहुत अधिक आवाज करने वाला पटाखे फोड़ना मना है

• निर्माण-कार्य में इस्तेमाल होने वाली मशीन/उपकरण चलाना जिससे बहुत आवाज़ होती हो

अगर आप इनमें से किसी का भी उल्लंघन होते हुए देखते हैं तो आप पुलिस एवं इससे संबंधित अधिकारी के पास शिकायत दर्ज करा सकते हैं, और ऐसी शिकायत दर्ज होने पर संबंधित अधिकारी शोर को रोकने के लिए कार्रवाई करेंगे।

ध्वनि प्रदूषण करने पर सजा

यदि कोई भी व्यक्ति साइलेंट जोन में ध्वनि प्रदूषण करता है, तो उसे जुर्माना लगाया जाएगा और जेल की सजा भी हो सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

क्या आपके पास कोई कानूनी सवाल है जो आप हमारे वकीलों और वालंटियर छात्रों से पूछना चाहते हैं?

Related Resources

विभिन्न क्षेत्रों में ध्वनि की सीमा

प्रत्येक राज्य सरकारें, विभिन्न स्थानों को निम्नलिखित क्षेत्रों में वर्गीकृत करती है, जहां भिन्न-भिन्न ध्वनि सीमाओं का पालन किया जाना है |

ध्वनि प्रदूषण के स्रोत

ध्वनि प्रदूषण काफी हद तक औद्योगीकरण, शहरीकरण और आधुनिक सभ्यता की उपज है। ध्वनि प्रदूषण के दो स्रोत हैं-पहला: औद्योगिक और दूसरा: गैर-औद्योगिक। औद्योगिक स्रोत में विभिन्न उद्योगों से होने वाला शोर और बहुत तेज़ गति एवं तेज़ आवाज़ से काम करने वाली बड़ी मशीनें शामिल हैं।  गैर-औद्योगिक स्रोत में परिवहन, विभिन्न प्रकार के वाहन, […]

ध्वनि-प्रदूषण की शिकायत दर्ज कराना

अगर कोई शोर हो रहा है जिससे आपको झुंझलाहट होती है, या बेचैनी या कोई चोट लगती है, तो आप नीचे दिए गए अधिकारियों के पास शिकायत दर्ज करा सकते हैं।

ध्वनि प्रदूषण क्या है?

जब यह एक निश्चित सीमा से ऊपर चला जाता है, तो इसे ध्वनि प्रदूषण के साथ-साथ सार्वजनिक परेशानी के रूप में भी देखा जाता है।

लाउडस्पीकर और पब्लिक एड्रेस सिस्टम

लाउडस्पीकर भारत में ध्वनि प्रदूषण का एक सामान्य स्रोत है, और इसका उपयोग स्थानीय अधिकारियों से लिखित अनुमति मिलने के बाद ही किया जा सकता है।

वाहनों का शोर

अगर आप अपने वाहन के हॉर्न का गलत इस्तेमाल करते हैं तो आप पर जुर्माना लगाया जा सकता है, निम्न परिस्थितियों में हॉर्न बजाना मना है |