आयकर अधिकारियों द्वारा जारी नोटिस

आखिरी अपडेट Sep 2, 2022

कभी-कभी, आयकर अधिकारियों द्वारा आपके नाम पर जारी किए गए नोटिस के जवाब में आपको आयकर रिटर्न (आईटीआर) दाखिल करना पड़ सकता है। ये कुछ प्रमुख उदाहरण हैं कि कब करदाता को नोटिस जारी किया जा सकता है:

• यदि निर्धारण अधिकारी को लगता है कि आपकी आय की विवरणी(रिटर्न) में कोई त्रुटि है, तो वह अधिकारी आपको त्रुटि के बारे में नोटिस जारी कर सकता है, और आपको नोटिस के पंद्रह दिनों के भीतर गलती को सुधारने का मौका दे सकता है। उस गलती को पंद्रह दिनों के भीतर या अधिकारी द्वारा दी गई अवधि के भीतर सही किया जाना चाहिए। सुधार नहीं करने पर, आपका रिटर्न अमान्य रिटर्न माना जाएगा। और इससे यह माना जाएगा कि आप करदाता के रूप में रिटर्न जमा करने में विफल रहे हैं, जिसके परिणामस्वरूप आपको जुर्माना देना होगा।

• आयकर निर्धारण करने के लिए, निर्धारण अधिकारी ऐसे किसी भी व्यक्ति को नोटिस जारी कर सकता है, जिसने समय पर इनकम टैक्स रिटर्न जमा नहीं किया है, ताकि वह व्यक्ति रिटर्न जमा कर सके। वह अधिकारी आपसे जरूरी अकाउंट या डाक्यूमेंट्स भी मांग सकता है। आयकर अधिकारी आपसे किसी भी जानकारी को जमा करने के लिए या उसे सत्यापित करने के लिए कह सकते हैं। इसके अलावा, इसमें आपकी सभी संपत्तियों और देयता का विवरण भी शामिल हो सकता है।

• अगर निर्धारण अधिकारी को लगता है कि आपकी टैक्स योग्य आय का कोई हिस्सा टैक्स निर्धारण से बच गया है या किसी असेसमेंट ईयर के लिए मूल्यांकन नहीं किया गया है, तो वह ऐसी आय का आकलन या पुनर्मूल्यांकन कर सकता है। यह आकलन करने से पहले, निर्धारण अधिकारी आपको प्रासंगिक असेसमेंट ईयर के अनुरूप पिछले वर्ष के लिए इनकम टैक्स रिटर्न जमा करने के लिए एक नोटिस देगा। यह नोटिस उस समयसीमा को निर्दिष्ट करेगा जिसके भीतर आपको रिटर्न जमा करना होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

क्या आपके पास कोई कानूनी सवाल है जो आप हमारे वकीलों और वालंटियर छात्रों से पूछना चाहते हैं?

Related Resources

कर में कटौती

कटौती एक व्यय है जिसे किसी व्यक्ति की सकल कुल आय से घटाया जाता है ताकि उस धनराशि को कम किया जा सके जिस पर कर लगाया जा रहा है। यह कटौती आय की राशि से कम, अधिक या उसके बराबर हो सकती है। यदि कटौती योग्य राशि आय की राशि से अधिक है तो […]

आयकर कानून के तहत प्राधिकरण

वित्त मंत्रालय ने प्रत्यक्ष करों के प्रबंधन कार्य जैसे इनकम टैक्स, संपत्ति कर (वेल्थ टैक्स) आदि को केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) को सौंप दिया है।

अधिनियम के तहत अंतर-धार्मिक विवाह के पंजीकरण की प्रक्रिया

विशेष विवाह के लिए पंजीकरण की प्रक्रिया इस प्रकार है:

कर की दरें

आयकर विभाग की वेबसाइट पर उपलब्ध मुफ्त ऑनलाइन टैक्स कैलकुलेटर का उपयोग करके आयकर की राशि की गणना कर सकते हैं।

शिकायत करना

इनकम टैक्स रिटर्न दाखिल करने से संबंधित विशिष्ट मुद्दों के लिए, आप इनकम टैक्स ई-फाइलिंग पोर्टल के हेल्प डेस्क से संपर्क कर सकते हैं।

आयकर क्या है?

सरकार द्वारा प्रत्येक व्यक्ति की आय पर लगाया जाने वाला कर है। आयकर को नियंत्रित करने वाले कानूनी प्रावधान आयकर अधिनियम, 1961 में शामिल है |