ई-फाइलिंग प्रक्रिया (ऑफलाइन फाइलिंग)

आखिरी अपडेट Sep 2, 2022

ऑफलाइन ई-फाइलिंग मोड, यह केवल आईटीआर फॉर्म 1 और 4 के अलावा अन्य फॉर्म के लिए लागू होता है, इसे ऑफलाइन भरें और फिर इसे वेबसाइट पर जमा करें।

चरण 1: आईटीआर फॉर्म चुनें

ऑफलाइन मोड के लिए, आपको आयकर विभाग के ई-फाइलिंग पोर्टल से उचित आईटीआर फॉर्म डाउनलोड करना होगा। अगर आप जानना चाहते हैं कि आपको कौन सा आईटीआर फॉर्म भरना है, तो यहां पढ़ें

अगर आप ई-फाइलिंग पोर्टल में लॉग इन करते हैं तो पहले से भरा हुआ फॉर्म भी डाउनलोड किया जा सकता है। अपने अकाउंट से आप ‘डाउनलोड प्री-फिल्ड एक्सएमएल’ चुन सकते हैं, जिसे व्यक्तिगत और अन्य उपलब्ध जानकारियों को पहले से भरने के लिए आपके आईटीआर फॉर्म में इम्पोर्ट किया जा सकता है।

चरण 2: विवरण भरें

डाउनलोड किए गए आईटीआर फॉर्म को आप ऑफलाइन भर सकते हैं। यह सुनिश्चित करें कि आप फॉर्म को पूरी तरह से भरें और सभी आवश्यक जानकारी को सही ढंग से प्रदान करें। फॉर्म में सभी टैब की पुष्टि करें। ध्यान दें कि आईटीआर फॉर्म अटैचमेंट-रहित फॉर्म हैं और इसलिए, आपको इनकम रिटर्न के साथ कोई भी दस्तावेज (जैसे निवेश का प्रमाण, टीडीएस प्रमाण पत्र, आदि) को लगाने की आवश्यकता नहीं है। हालांकि, इन दस्तावेजों को सुरक्षित रूप से रखा जाना चाहिए, और जब मूल्यांकन, पूछताछ आदि जैसी स्थितियों में मांगी जाए, तो इन दस्तावेजों को टैक्स अधिकारियों के सामने प्रस्तुत किया जाना चाहिए।

चरण 3: अपनी कर देयता की गणना करना

वित्तीय वर्ष के लिए कुल आय की गणना करना और अपनी कर देयता की गणना करना। एक बार जब आप सभी आवश्यक दस्तावेज एकत्र कर लेते हैं और अपनी आय से काटे गए सभी करों को सत्यापित कर लेते हैं, तो आप टैक्स योग्य कुल आय की गणना कर सकते हैं। अपनी कुल आय की गणना करने के बाद, आपको अपनी आय स्लैब के अनुसार लागू टैक्स दरों को लागू करके अपनी कर देयता की गणना करनी होगी।

चरण 4: कटौती

एक बार जब आप अपनी कर देयता की गणना कर लेते हैं, तो आपके द्वारा पहले से ही टीडीएस, टीसीएस और एडवांस टैक्स के माध्यम से भुगतान किए गए टैक्स को घटाएं और देय ब्याज (यदि कोई हो) को जोड़ें। इससे आपको यह पता चलेगा कि क्या आपके द्वारा सभी करों का भुगतान पहले ही कर दिया गया है या किसी अतिरिक्त कर का भुगतान किया जाना है, या अगर आपने कोई अतिरिक्त कर चुकाया है और उसकी रिफंड आपको मिलना बाकी है।

चरण 5: आईटीआर फॉर्म जमा करना

आईटीआर फॉर्म को जेनरेट करें और उसे सेव करें। फॉर्म को ऑफलाइन भरने के बाद, आप इसे ई-फाइलिंग पोर्टल पर लॉग इन करके ऑनलाइन जमा कर सकते हैं।

चरण 6: एक्सएमएल फॉर्मेट में आईटीआर फॉर्म अपलोड करना

‘ई-फाइल’ मेनू का चयन करने के बाद, ‘इनकम टैक्स रिटर्न’ पेज पर जाएं, वहां आपको असेसमेंट ईयर, आईटीआर फॉर्म नंबर, और क्या आपका आईटीआर एक मूल/रिवाइज्ड रिटर्न है, का चयन करना होगा। फिर आप अपना फॉर्म एक्सएमएल फॉर्मेट में अपलोड कर सकते हैं। आपको अपना फॉर्म सत्यापित करने के लिए कई सारे विकल्प मिलेंगे, जिसको आप अपना फॉर्म सत्यापन करने के लिए सबमिट करते समय चुन सकते हैं या फिर बाद में भी सत्यापित सकते हैं।

एक बार सत्यापन हो जाने के बाद, आप यहां अपना आईटीआर स्टेटस चेक कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

क्या आपके पास कोई कानूनी सवाल है जो आप हमारे वकीलों और वालंटियर छात्रों से पूछना चाहते हैं?

Related Resources

रिवाइज्ड रिटर्न भरने की प्रक्रिया

ऑफलाइन मोड के लिए, आपको आयकर विभाग के ई-फाइलिंग पोर्टल से उचित आईटीआर फॉर्म डाउनलोड करना होगा।

इनकम टैक्स रिटर्न कैसे फाइल करें?

मैन्युअल रूप से रिटर्न भरने के लिए, आपको आयकर विभाग के कार्यालय में जाना होगा। आप यहां अपने नजदीकी टैक्स ऑफिस का पता लगा सकते हैं।

ई-कॉमर्स प्लैटफॉर्म के खिलाफ उपभोक्ता शिकायतें

खुदरा विक्रेताओं के माध्यम से खरीदे गए डिजिटल और अन्य उत्पादों से जुड़े अनुचित व्यापार व्‍यवहारों के खिलाफ भी शिकायत कर सकते हैं।

पासपोर्ट को नया बनवाना, पुनः जारी (री-इशु) करवाना. या अपडेट करवाना

एक जैसी नहीं है। पासपोर्ट के संबंध में, री-इशु कराने का अर्थ है, पासपोर्ट का नवीनीकरण। ऐसा ऑनलाइन से, या व्यक्तिगत रूप से, किया जा सकता है।

ई-फाइलिंग प्रक्रिया (ITR-1 और ITR-4 के लिए ऑनलाइन फाइलिंग)

ऑनलाइन ई-फाइलिंग मोड, यह केवल आईटीआर फॉर्म 1 और 4 के लिए लागू होता है जिसे आप सीधे ऑनलाइन भर सकते हैं। 

असेसमेंट/आई.टी.आर वेरिफिकेशन

अगर आप रिटर्न फाइल करने के 120 दिनों के भीतर अपना आईटीआर सत्यापित नहीं करते हैं, तो यह माना जाएगा कि आपने आईटीआर दाखिल नहीं किया है।