गोद लेने के लिए कानूनी रूप से मुक्त बच्चे

आखिरी अपडेट Aug 18, 2022

एक बच्चे को गोद लेने के लिए कानूनी रूप से मुक्त घोषित करने पर ऐसे बच्चों को गैर-धार्मिक कानून के तहत गोद लेने के लिए रखा जा सकता है, जिससे उस बच्चे का अपने असली माता-पिता के साथ कानूनी संबंध ख़त्म हो जाता है।

बाल कल्याण समिति (सी.डब्ल्यू.सी) एक बच्चे को गोद लेने के लिए मुक्त घोषित करने का निर्णय लेती है, इसके बाद: यह पूछताछ करती है, जिसमें निम्न बिंदु शामिल हैं:

• परिवीक्षा अधिकारी/सामाजिक कार्यकर्ता से प्राप्त एक रिपोर्ट,

• बच्चे की सहमति (अगर वे काफी बड़े हैं),

• जिला बाल संरक्षण इकाई और बाल देखभाल संस्थान या विशेष दत्तक ग्रहण एजेंसी, आदि द्वारा प्रस्तुत आवश्यक घोषणा-पत्र।

बच्चों को गोद लेने के लिए उनके निम्नलिखित श्रेणियों को कानूनी रूप से मुक्त घोषित किया जा सकता हैः

अनाथ: बिना माता-पिता (असली या सौतेला) या वैध अभिभावक के बिना बच्चे, या वे बच्चे जिनके वैध अभिभावक उसकी देखभाल करने में सक्षम या इच्छुक नहीं हैं।

परित्यक्त बच्चे: माता-पिता (जैविक या दत्तक) या अभिभावकों द्वारा त्याग दिए गए बच्चे, और जिन्हें बाल कल्याण समिति द्वारा परित्यक्त बच्चा घोषित किया गया हो।

त्याग दिए गए बच्चे: वे बच्चे जिन्हें माता-पिता/अभिभावक द्वारा छोड़ दिया गया हो, और बाल कल्याण समिति द्वारा सरेंडर किए गए बच्चे घोषित किया गया हो।

• मानसिक रूप से कमजोर या मंद बुद्धि वाले माता-पिता का बच्चा।

यौन हमले से पीड़ितों की अनचाही संतान।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

क्या आपके पास कोई कानूनी सवाल है जो आप हमारे वकीलों और वालंटियर छात्रों से पूछना चाहते हैं?

Related Resources

उत्पाद दायित्व क्या होता है?

उत्पाद में सेवा में कमी पाये जाने पर ग्राहक को हुए नुकसान की भरपाई के लिए उत्पाद निर्माता या विक्रेता की जिम्मेदारी को रेखांकित करती है।

कर में कटौती

कटौती एक व्यय है जिसे किसी व्यक्ति की सकल कुल आय से घटाया जाता है ताकि उस धनराशि को कम किया जा सके जिस पर कर लगाया जा रहा है। यह कटौती आय की राशि से कम, अधिक या उसके बराबर हो सकती है। यदि कटौती योग्य राशि आय की राशि से अधिक है तो […]

कौन गोद ले सकता है?

गैर-धार्मिक कानून के तहत गोद लेने के लिए, आपको एक भावी माता-पिता के रूप में माने जाने के लिए निम्नलिखित शर्तों को पूरा करना होगा |

रिश्तेदारों द्वारा गोद लेने की प्रक्रिया (गैर-धार्मिक कानून)

एक बच्चे के रिश्तेदार के तौर पर, गोद लेने के लिए गैर-धार्मिक कानून का पालन करते हुए, आप भारत के भीतर और भारत के बाहर (अंतर्देशीय दत्तक) भी बच्चे को गोद ले सकते हैं। भारत के भीतर दत्तक ग्रहण या गोद लेना (अंतरादेशीय दत्तक ग्रहण) अंतरादेशीय दत्तक ग्रहण यानी भारत के भीतर ही रिश्तेदारों द्वारा […]

गोद लेना किसे कहते हैं?

‘गोद लेना’ वह प्रक्रिया है जिसके माध्यम से गोद लेने वाले भावी माता-पिता कानूनी रूप से बच्चे की जिम्मेदारी लेते हैं, जिसमें बच्चे को पहले से ही दिए गए सभी अधिकार, विशेषाधिकार और जिम्मेदारियां शामिल हैं। गोद लेने की कानूनी औपचारिकताएं पूरी होने के बाद, बच्चे को उनके असली माता-पिता से स्थायी रूप से अलग […]

भारतीय निवासियों द्वारा गोद लेने की प्रक्रिया (गैर-धार्मिक कानून)

एक निवासी भारतीय के रूप में, आप देश में गोद लेने का विकल्प चुन सकते हैं, यानी भारत के भीतर गोद लेना।