सशस्त्र बलों के विशेष शक्तियां

आखिरी अपडेट Sep 19, 2022

सशस्त्र बल (विशेष शक्तियां ) अधिनियम, 1958 (AFSPA) अशांत क्षेत्रों में सशस्त्र बलों को कुछ ‘विशेष शक्तियां’ प्रदान करता है। यह कानून अरुणाचल प्रदेश, असम, मणिपुर, मेघालय, मिजोरम, नागालैंड और जम्मू और कश्मीर जैसे राज्यों में लागू है। 1990 में जम्मू और कश्मीर में कुछ प्रावधानों को छोड़कर एक अलग AFSPA अधिनियमित किया गया था जो AFSPA, 1958 के समान है

AFSPA के तहत सेना को “सशस्त्र बल” माना जाता है। जब वायु सेनाएं जमीन पर काम करती हैं, तो उन्हें “सशस्त्र बल” के रूप मान्यता दी जाती है और उनके पास AFSPA के तहत विशेष अधिकार और दायित्व होते हैं। केंद्र सरकार के अन्य सशस्त्र बल जैसे सीमा सुरक्षा बल (BSF) भी AFSPA के तहत शामिल हैं। हालाँकि, नौसेना “सशस्त्र बलों” के अंतर्गत नहीं आती है।

इन सशस्त्र बलों के कुछ अधिकारियों को विशेष अधिकार दिए गए हैं, जैसे कि गोली मारने और बल प्रयोग करने, आश्रयों/भंडारण को नष्ट करने, बिना वारंट के गिरफ्तारी, प्रवेश करने और तलाशी लेने के अधिकार आदि। अधिकारियों के इन बैंड में शामिल हैं:

  • कमीशन अधिकारी
  • गैर कमीशन अधिकारी,
  • वारंट अधिकारी।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

क्या आपके पास कोई कानूनी सवाल है जो आप हमारे वकीलों और वालंटियर छात्रों से पूछना चाहते हैं?

Related Resources

जम्मू कश्मीर में AFSPA

जम्मू और कश्मीर में लागू सशस्त्र बल (विशेष अधिकार) अधिनियम, 1990 (AFSPA) के अधिकांश प्रावधान सशस्त्र बल अधिनियम, 1958 के समान हैं |

कर में कटौती

कटौती एक व्यय है जिसे किसी व्यक्ति की सकल कुल आय से घटाया जाता है ताकि उस धनराशि को कम किया जा सके जिस पर कर लगाया जा रहा है। यह कटौती आय की राशि से कम, अधिक या उसके बराबर हो सकती है। यदि कटौती योग्य राशि आय की राशि से अधिक है तो […]

रैगिंग रोकने के लिए संस्थानों के कर्तव्य

सभी कॉलेजों / विश्वविद्यालयों को परिसर के भीतर और बाहर, दोनों जगहों पर रैगिंग खत्म करने के लिए सभी उपाय करने होंगे।
Crimes and Violence

रैगिंग माने जाने वाले कृत्य

छात्रों के अनेक कृत्‍यों को कानून के तहत रैगिंग माना जाता है। रैगिंग के रूप में माने जाने वाले कुछ कृत्‍य हैं |
Crimes and Violence

नये पैन नंबर पाने के लिए प्रक्रिया

आप पैन नंबर के लिए ऑनलाइन या व्यक्तिगत रूप से आवेदन कर सकते हैं।पैन नंबर के लिए ऑनलाइन आवेदन करने की प्रक्रियाप्रक्रिया इस प्रकार है |

विद्यालय में प्रवेश पाने की प्रक्रिया

6 से 14 वर्ष की आयु के सभी बच्चे पहली कक्षा (प्रथम कक्षा) से 8वीं (आठवीं कक्षा) तक विद्यालय से फ्री शिक्षा प्राप्त कर सकते हैं।
citizen rights icon