अमान्य दत्तक ग्रहण के मामले में, गोद लिए गए बच्चे को दत्तक परिवार में कोई अधिकार प्राप्त नहीं होता है और वह किसी भी ऐसे अधिकार को नहीं छोड़ता है जिसका वह बच्चा अपने जैविक परिवार में हकदार था।

गोद लेने के प्रभाव

आखिरी अपडेट Aug 18, 2022

गोद लेने के निम्नलिखित प्रभाव हैं, भले ही आपने किस भी कानून के तहत बच्चे को अपनाया हो:

दत्तक माता-पिता का बच्चा: वह गोद लेने वाले (सौतेले) माता-पिता का बच्चा बन जाता है, और वे माता-पिता बच्चे के असली माता-पिता की तरह बन जाते हैं जैसे कि बच्चा उनकी ही सभी इच्छाओं से पैदा हुआ था।

बच्चे का पारिवारिक संबंध: बच्चे का जन्म जिस परिवार में हुआ है, उस परिवार के साथ संबंध टूट जाते हैं और गोद लेने वाले परिवार (दत्तक परिवार) के साथ नये संबंध बनते हैं। हालाँकि, हिंदू कानून के तहत गोद लेने पर, जिस परिवार में बच्चा जन्म लिया था, और उस परिवार ने जिस किसी भी व्यक्ति के साथ बच्चे की शादी के लिए मना किया हो, तो गोद लिया हुआ बच्चा अभी भी उस व्यक्ति से शादी नहीं कर सकता।

बच्चे के संपत्ति का अधिकार: गोद लेने से पहले भी अगर बच्चे की स्वामित्व वाली कोई भी संपत्ति है, तो वह संपत्ति के साथ लगाए गए अनुबंध-पत्र के साथ (असली परिवार में रिश्तेदारों को बनाए रखने के दायित्व सहित) वह बच्चे की ही संपत्ति बनी रहेगी।

इसके अलावा, हिंदू कानून के तहत गोद लेने पर, बच्चे के गोद लेने के लिए दिए गए आदेश को प्रभावी होने की तारीख से:

बच्चे के संपत्ति का अधिकार: व्यक्ति (दत्तक माता-पिता) के पास गोद लेने से पहले की जो संपत्ति थी,उस संपत्ति पर गोद लिया हुआ बच्चा स्वामित्व का दावा नहीं कर सकता और ना ही उस संपत्ति को छीन सकता है। वह बच्चा दत्तक माता/पिता को अपने जीवनकाल के दौरान अपनी संपत्ति को बेचने से भी नहीं रोक सकता है, और ना ही किसी को देने या दान करने से रोक सकता है।

एक वैध दत्तक ग्रहण को रद्द करना: एक वैध दत्तक ग्रहण को दत्तक(गोद लिया हुआ या सौतेला) माता-पिता या किसी अन्य व्यक्ति द्वारा रद्द नहीं किया जा सकता है। एक बार गोद लेने के बाद, बच्चे को वह अस्वीकार नहीं कर सकता और न उसे वापस कर सकता है जिस परिवार में बच्चा जन्म लिया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

क्या आपके पास कोई कानूनी सवाल है जो आप हमारे वकीलों और वालंटियर छात्रों से पूछना चाहते हैं?

Related Resources

उत्पाद दायित्व क्या होता है?

उत्पाद में सेवा में कमी पाये जाने पर ग्राहक को हुए नुकसान की भरपाई के लिए उत्पाद निर्माता या विक्रेता की जिम्मेदारी को रेखांकित करती है।

कर में कटौती

कटौती एक व्यय है जिसे किसी व्यक्ति की सकल कुल आय से घटाया जाता है ताकि उस धनराशि को कम किया जा सके जिस पर कर लगाया जा रहा है। यह कटौती आय की राशि से कम, अधिक या उसके बराबर हो सकती है। यदि कटौती योग्य राशि आय की राशि से अधिक है तो […]

कौन गोद ले सकता है?

गैर-धार्मिक कानून के तहत गोद लेने के लिए, आपको एक भावी माता-पिता के रूप में माने जाने के लिए निम्नलिखित शर्तों को पूरा करना होगा |

गोद लेना किसे कहते हैं?

‘गोद लेना’ वह प्रक्रिया है जिसके माध्यम से गोद लेने वाले भावी माता-पिता कानूनी रूप से बच्चे की जिम्मेदारी लेते हैं, जिसमें बच्चे को पहले से ही दिए गए सभी अधिकार, विशेषाधिकार और जिम्मेदारियां शामिल हैं। गोद लेने की कानूनी औपचारिकताएं पूरी होने के बाद, बच्चे को उनके असली माता-पिता से स्थायी रूप से अलग […]

रिश्तेदारों द्वारा गोद लेने की प्रक्रिया (गैर-धार्मिक कानून)

एक बच्चे के रिश्तेदार के तौर पर, गोद लेने के लिए गैर-धार्मिक कानून का पालन करते हुए, आप भारत के भीतर और भारत के बाहर (अंतर्देशीय दत्तक) भी बच्चे को गोद ले सकते हैं। भारत के भीतर दत्तक ग्रहण या गोद लेना (अंतरादेशीय दत्तक ग्रहण) अंतरादेशीय दत्तक ग्रहण यानी भारत के भीतर ही रिश्तेदारों द्वारा […]

न्यायालयों की भूमिका

गोद लेने की प्रक्रिया के दौरान कोर्ट बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। कोर्ट द्वारा निभाई गई कुछ महत्वपूर्ण भूमिकाएं नीचे दी गई हैं |