निरोध नीति

आखिरी अपडेट Sep 7, 2022

प्रत्येक शैक्षणिक वर्ष के अंत में पांचवीं और आठवीं कक्षा के लिए एक सामान्य परीक्षा आयोजित की जाती है।

यदि कोई बच्चा आयोजित परीक्षा में असफल फेल हो जाता है, तो उसे अतिरिक्त शिक्षा प्रदान की जाती है और परिणाम घोषित होने के दो महीने के भीतर परीक्षा में फिर से बैठने का अवसर दिया जाता है। पुन: परीक्षा में असफल होने पर छात्रों को पांचवीपांचवीं या आठवीं कक्षा में वापस दाखिलदाखिला कियादिया जा सकता है। इसके लिए विवेकाधिकार सरकार के पास है। दिल्ली और गुजरात जैसे राज्यों ने कक्षा 5 और 8 में अपने पुनर्मूल्यांकन में असफल होने वाले छात्रों को रोकने के लिए इसे लागू किया है।

यह अवरोध नो-डिटेंशन नीति कहती है कि:

• प्रारंभिक शिक्षा पूरी होने तक किसी भी बच्चे को स्कूल से निष्कासित नहीं किया जा सकता है।

• परीक्षा में असफल होने पर किसी भी बच्चे को स्कूल से निष्कासित नहीं किया जा सकता है।

प्रारंभिक शिक्षा पूरी होने तक किसी भी बच्चे को बोर्ड परीक्षा उत्तीर्ण करने की आवश्यकता नहीं होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

क्या आपके पास कोई कानूनी सवाल है जो आप हमारे वकीलों और वालंटियर छात्रों से पूछना चाहते हैं?

Related Resources

नियोक्ता की जिम्मेदारी

कार्यस्थल कानून के तहत किसी नियोक्ता को महिलाओं के लिए सुरक्षित कार्य माहौल बनाने के लिए कुछ कदम उठाने होते हैं।

LGBTQ + व्यक्तियों के प्रति यौन हिंसा

यदि आप किसी यौन हिंसा का सामना करते हैं या आप किसी ऐसे व्यक्ति को जानते हैं, जिसके साथ यौन हिंसा हुई है, तो आपको निम्नलिखित कदम उठाने चाहिए: तत्काल सुरक्षा के लिए हेल्पलाइन पर कॉल करें। नजदीकी पुलिस स्टेशन में शिकायत करें। यौन हिंसा यदि आपने किसी भी प्रकार की यौन हिंसा का सामना […]
Crimes and Violence

अंतर-धार्मिक विवाह के लिए शर्तें

शादी के समय आपको निम्नलिखित परिस्थितियों को ध्यान में रखना होगा:

आपको नौकरी से निकाला जाना

यदि  आपका नियोक्ता आपको नौकरी से निकाल देता है, तो यह या तो नोटिस अवधि या आपके अनुबंध में दी गई किसी अन्य शर्तों के अनुसार हो सकता है।

अनुबंध के उल्लंघन के उपाय

अनुबंध के उल्लंघन के लिए

आयकर कानून के तहत प्राधिकरण

वित्त मंत्रालय ने प्रत्यक्ष करों के प्रबंधन कार्य जैसे इनकम टैक्स, संपत्ति कर (वेल्थ टैक्स) आदि को केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) को सौंप दिया है।