बच्चे द्वारा चोरी

आखिरी अपडेट Sep 6, 2022

अगर कोई बच्चा चोरी करता है, तो उसके लिए सजा एक बालिग व्यक्ति की सजा से हल्की होती है। जब कोई बच्चा चोरी करता है तो आमतौर पर ऐसा होता है:

• एक बच्चे को गिरफ्तार किया जा सकता है, लेकिन उसे जेल में नहीं रखा जा सकता है- पुलिस को बच्चे को 24 घंटे के भीतर किशोर न्याय बोर्ड (जेजेबी) के सामने पेश करना होगा।

• अगर पुलिस तुरंत बंदी को जमानत पर रिहा नहीं करती है, तो बच्चे को केवल तब तक ऑब्जर्वेशन होम में रखा जा सकता है जब तक कि उसे जेजेबी (24 घंटे के भीतर) नहीं ले जाया जाता।

• पुलिस को एक बाल कल्याण अधिकारी को सूचित करना होता है जो बच्चे के साथ पहली सुनवाई के लिए जेजेबी में जाता है।

जेजेबी को 4-6 महीने के भीतर जांच पूरी करनी होती है, और यदि मामला इससे आगे बढ़ता है तो मामला समाप्त कर दिया जाता है।

यदि किसी बच्चे ने आपसे चोरी की है, तो शिकायत करने के लिए आप जो कदम उठा सकते हैं, उन्हें समझने के लिए यहां पढ़ें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

क्या आपके पास कोई कानूनी सवाल है जो आप हमारे वकीलों और वालंटियर छात्रों से पूछना चाहते हैं?

Related Resources

चोरी के प्रकार

चोरी के कई अन्य रूप हैं और कानून उन लोगों को दंडित करता है, जो स्थिति के आधार पर चोरी करते हैं, और साथ ही वे कौन हैं, इस पर निर्भर करते हैं।
Crimes and Violence

रिश्तेदारों द्वारा गोद लेने की प्रक्रिया (गैर-धार्मिक कानून)

एक बच्चे के रिश्तेदार के तौर पर, गोद लेने के लिए गैर-धार्मिक कानून का पालन करते हुए, आप भारत के भीतर और भारत के बाहर (अंतर्देशीय दत्तक) भी बच्चे को गोद ले सकते हैं। भारत के भीतर दत्तक ग्रहण या गोद लेना (अंतरादेशीय दत्तक ग्रहण) अंतरादेशीय दत्तक ग्रहण यानी भारत के भीतर ही रिश्तेदारों द्वारा […]

ओ.सी.आई या अनिवासी भारतीय (एन.आर.आई) या किसी दूसरे देश में रहने वाले विदेशी नागरिक (गैर-धार्मिक कानून) द्वारा गोद लेना

अगर आप भारत के प्रवासी नागरिक (ओ.सी.आई), प्रवासी भारतीय (एन.आर.आई) या किसी अन्य देश में रहने वाले विदेशी हैं |

भारतीय निवासियों द्वारा गोद लेने की प्रक्रिया (गैर-धार्मिक कानून)

एक निवासी भारतीय के रूप में, आप देश में गोद लेने का विकल्प चुन सकते हैं, यानी भारत के भीतर गोद लेना।

न्यायालयों की भूमिका

गोद लेने की प्रक्रिया के दौरान कोर्ट बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। कोर्ट द्वारा निभाई गई कुछ महत्वपूर्ण भूमिकाएं नीचे दी गई हैं |

कर में कटौती

कटौती एक व्यय है जिसे किसी व्यक्ति की सकल कुल आय से घटाया जाता है ताकि उस धनराशि को कम किया जा सके जिस पर कर लगाया जा रहा है। यह कटौती आय की राशि से कम, अधिक या उसके बराबर हो सकती है। यदि कटौती योग्य राशि आय की राशि से अधिक है तो […]