चेक बाउंस होने के मामलों में सजा

आखिरी अपडेट Aug 11, 2022

चेक बाउंस होना दीवानी (सिविल) और फौजदारी (क्रिमिनल) दोनों तरह का अपराध है। आप अपने पैसे की वसूली के लिए दीवानी मुक़दमा दायर कर सकते हैं और साथ ही चेक बाउंस करने वाले व्यक्ति को दंडित करने के लिए आपराधिक शिकायत भी कर सकते हैं। दोनों के लिए कार्यवाही दो अलग-अलग मामलों में होगी। आप केवल एक मामला दर्ज करना चुन सकते हैं या आप इन मामलों को एक साथ दर्ज कर सकते हैं।

दीवानी मुक़दमे में आपके लिए उपलब्ध उपाय ब्याज के साथ चेक राशि का पुनर्भुगतान है। जबकि, एक आपराधिक शिकायत में, चेक के अपराधी/चेक काटने वाले को दो साल तक की जेल की सजा हो सकती है, और/या चेक की राशि का दोगुना जुर्माना लगाया जा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

क्या आपके पास कोई कानूनी सवाल है जो आप हमारे वकीलों और वालंटियर छात्रों से पूछना चाहते हैं?

Related Resources

कर में कटौती

कटौती एक व्यय है जिसे किसी व्यक्ति की सकल कुल आय से घटाया जाता है ताकि उस धनराशि को कम किया जा सके जिस पर कर लगाया जा रहा है। यह कटौती आय की राशि से कम, अधिक या उसके बराबर हो सकती है। यदि कटौती योग्य राशि आय की राशि से अधिक है तो […]

रैगिंग रोकने के लिए संस्थानों के कर्तव्य

सभी कॉलेजों / विश्वविद्यालयों को परिसर के भीतर और बाहर, दोनों जगहों पर रैगिंग खत्म करने के लिए सभी उपाय करने होंगे।
Crimes and Violence

चेक भुनाना

चेक को भुनाने के लिए इन चरणों का पालन करें।

ध्वनि-प्रदूषण की शिकायत दर्ज कराना

अगर कोई शोर हो रहा है जिससे आपको झुंझलाहट होती है, या बेचैनी या कोई चोट लगती है, तो आप नीचे दिए गए अधिकारियों के पास शिकायत दर्ज करा सकते हैं।

विद्यालय में प्रवेश पाने की प्रक्रिया

6 से 14 वर्ष की आयु के सभी बच्चे पहली कक्षा (प्रथम कक्षा) से 8वीं (आठवीं कक्षा) तक विद्यालय से फ्री शिक्षा प्राप्त कर सकते हैं।
citizen rights icon

ध्वनि प्रदूषण के प्रभाव

यह हमारी सुनने की क्षमता को नुकसान पहुंचा सकता है और अन्य मनोवैज्ञानिक, और संभवतः रोग संबंधी प्रक्रिया को जन्म दे सकता है।