प्रचार के दौरान प्रिंट मीडिया को कैसे नियंत्रित किया जाता है?

आखिरी अपडेट Sep 26, 2022

समाचार पत्र

समाचार पत्रों सहित सभी प्रिंट मीडिया को आचार-संहिता (एमसीसी) के नियमों का पालन करना होगा। प्रेस का कर्तव्य है कि:

  • वे निष्पक्ष रहकर, चुनाव और उम्मीदवारों के बारे में केवल निष्पक्ष रिपोर्ट दें। कोई रिपोर्ट बढ़ाचढ़ा कर नहीं दें। उदाहरण के लिए, प्रेस किसी उम्मीदवार के चुनाव प्रचार के बारे में कोई फर्जी खबर प्रकाशित नहीं कर सकता।
  • वे चुनाव प्रचार के लिए रिपोर्टिंग करते समय नफरत न फैलाएं, ऐसा करने से बचें जो धर्म, जाति, समुदाय या भाषा के आधार पर लोगों के बीच दुश्मनी या नफरत की भावनाओं को बढ़ावा देता हो। उदाहरण के लिए-जब किसी पार्टी का नेता कहता है कि सत्ता में आने पर हम मुसलमानों को सबक सिखाएंगे।
  • किसी भी उम्मीदवार के व्यक्तिगत चरित्र और आचरण के संबंध में गलत या आलोचनात्मक बयान प्रकाशित करने से बचें।
  • किसी भी उम्मीदवार या राजनीतिक दल के खिलाफ किसी भी तरह की असत्यापित आरोप को प्रकाशित करने से बचें।

कहानियों/अफवाहों को छापने के लिए पैसे लेना:

  • किसी उम्मीदवार या राजनीतिक दल के बारे में लिखने के लिए किसी भी प्रकार का धन, पैसा या इनाम लेने से बचें।
  • सरकारी खजाने के पैसों से सत्ताधारी दल की उपलब्धियों से संबंधित कोई भी विज्ञापन प्रकाशित करने से बचें।

उदाहरण के लिए, यदि किसी राजनीतिक दल से संबंधित प्रकृति को नुकसान/ठेस पहुंचाने वाले कुछ विज्ञापन अखबार में प्रकाशित होते हैं, तो यह आचार-संहिता (एमसीसी) का उल्लंघन है और इसके लिए मुद्रक और प्रकाशक को सजा दी जा सकती है।

पोस्टर और पैम्फलेट:

आचार-संहिता (एमसीसी) केवल उन छपे हुए पर्चे, हैंड-बिल या किसी भी अन्य पोस्टर पर लागू होता है, जिसे किसी उम्मीदवार या राजनीतिक दल के प्रसार को बढ़ावा देने या फिर उसे रोकने के लिए वितरित किया जाता है। उदाहरण के लिए, कोई राजनीतिक दल अगर किसी उम्मीदवार की बदली हुई (मोर्फ्ड) फोटो वाला पोस्टर प्रकाशित करता है, तो यह आचार-संहिता (एमसीसी) का उल्लंघन है, और इसके लिए मुद्रक और प्रकाशक को सजा दी जा सकती है।

तिथियों की घोषणा/ तारीख की घोषणा:

इसमें कोई हैंड-बिल, प्लेकार्ड या पोस्टर शामिल नहीं है, जिसमें किसी चुनावी सभा की तारीख, समय, स्थान और अन्य विवरण या चुनाव एजेंटों या कार्यकर्ताओं को नियमित निर्देश की घोषणा की गई हो। उदाहरण के लिए, कोई राजनीतिक दल अगर किसी उम्मीदवार की बदली हुई फोटो वाला पोस्टर प्रकाशित करता है, तो यह आचार-संहिता (एमसीसी) का उल्लंघन है और इसके लिए मुद्रक और प्रकाशक को सजा दी जा सकती है।

मुद्रक और प्रकाशक का नाम प्रकाशित करना:

अखबारों, पोस्टरों और पैम्पलेटों में किए गए किसी भी विज्ञापन पर मुद्रक और प्रकाशक का नाम छपा होना अनिवार्य है। यदि विज्ञापन में कोई भी ऐसा कंटेंट (सामग्री) छपा हो, जो आचार-संहिता (एमसीसी) का उल्लंघन करती है, तो इसके लिए मुद्रक या प्रकाशक जिम्मेदार होगा। और उसे सजा के तौर पर छह महीने की जेल हो सकती है या 2,000 रुपये तक का जुर्माना या फिर दोनों हो सकता है।

अखबारों, पोस्टरों और पैम्पलेटों और अन्य प्रिंट मीडिया के सभी मुद्रकों को छपाई से पहले निम्नलिखित काम करने होंगे:

  • प्रकाशक/पब्लिशर्स को अपनी पहचान के रूप में उनके हस्ताक्षर और दो गवाहों के साथ एक घोषणा पत्र जारी करना होगा।
  • घोषणा पत्र और दस्तावेज की एक कॉपी प्रिंट कर राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी (यदि यह किसी राज्य की राजधानी में छपी है) या उस जिले के जिला मजिस्ट्रेट को भेजी जानी चाहिए जहां इसे छापा जाता है।

समाचार पत्रों, पोस्टरों और पैम्पलेटों के इलेक्ट्रॉनिक संस्करण:

यदि समाचार पत्र, पोस्टर या पैम्फलेट इलेक्ट्रॉनिक रूप में हैं तो कानून के अनुसार पब्लिशर्स प्रकाशकों को विज्ञापन की एक कॉपी को जिला और राज्य स्तरीय ‘मीडिया प्रमाणन और निगरानी समिति’ को भेजकर पूर्व-प्रमाणित करना होगा, जो जांच करेगी कि यह विज्ञापन किसी कानून या आचार-संहिता (एमसीसी) का उल्लंघन तो नहीं कर रहा है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

क्या आपके पास कोई कानूनी सवाल है जो आप हमारे वकीलों और वालंटियर छात्रों से पूछना चाहते हैं?

Related Resources

ऑनलाइन बैंक धोखाधड़ी को रोकने के लिए बैंकों की जिम्मेदारी

बैंकों को अपने ग्राहकों को इलेक्ट्रॉनिक बैंकिंग लेनदेन के लिए अनिवार्य रूप से एसएमएस अलर्ट के लिए पंजीकरण करने के लिए कहना चाहिए।

शिकायत दर्ज करने की प्रक्रिया

इस सबके बावजूद, शिकायत का समाधान न होने पर, आप उपभोक्ता मंचों से संपर्क हेतु किसी वकील की मदद ले सकते हैं।

उपभोक्ता शिकायतों के प्रकार

उपभोक्ता संरक्षण कानून के तहत प्रत्येक व्यक्ति को निम्नलिखित प्रकार की उपभोक्ता शिकायतें दर्ज करने का अधिकार है |

उपभोक्ता शिकायत मंच

उपभोक्ता संरक्षण कानून संबद्ध प्राधिकरणों को निर्दिष्‍ट करता है कि कोई उपभोक्ता-अधिकारों का उल्‍लंघन होने पर उनसे संपर्क कर सकता है।

विवाद निपटान तंत्र के रूप में मध्यस्थता

मध्यस्थता एक आउट-ऑफ-कोर्ट समझौता है जहां पार्टियां कार्यवाही के तरीके को तय कर सकती हैं। यह विवादों के शीघ्र निपटारे में मदद करता है।

अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति के लोगों के खिलाफ क्रूर और अपमानजनक अत्याचार

अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति के लोगों के खिलाफ किए गए निम्न में से किसी भी अपराध को कानून ने अत्याचार माना हैछ
citizen rights icon