ध्वनि प्रदूषण के प्रभाव

आखिरी अपडेट Aug 24, 2022

‘शोर’ हमारे काम, आराम, नींद और संचार या बातचीत को बाधित कर सकता है। यह हमारी सुनने की क्षमता को नुकसान पहुंचा सकता है और अन्य मनोवैज्ञानिक, और संभवतः रोग संबंधी प्रक्रिया को जन्म दे सकता है। ध्वनि प्रदूषण के स्वास्थ्य पर कुछ बुरे प्रभाव नीचे दिए गए हैं:

बहरापन/ सुनाई न देना

बहरापन कुछ समय के लिए या हमेशा के लिए हो सकता है।

• Noise-Induced Temporary Threshold Shift (NITTS)-एन.आई.टी.टी.एस एक अस्थायी प्रकार का बहरापन है, जो तब होता है जब आप कुछ देर तक ऐसे स्थान पर रहते हैं जहां बहुत शोर हो रहा है।

• Noise-Induced Permanent Threshold Shift (NIPTS) एन.आई.पी.टी.एस एक स्थायी बहरापन है जो अपरिवर्तनीय हानि है। यह लंबे समय तक अत्यधिक शोरगुल वाले स्थान पर रहने के कारण होता है। एन.आई.पी.टी.एस.(NIPTS) आमतौर पर हाई फ्रीक्वेंसी रेडियो तरंगो के कारण होता है, सामान्य तौर बेहद खतरनाक होता है, यह लगभग 4000 हर्ट्ज़ (Hz) वाले तरंगों से होता है।

ये दोनों प्रकार के नुकसान कई बार प्रेसबायक्यूसिस के साथ हो सकते हैं। प्रेसबायक्यूसिस एक स्थायी बहरापन है जो हमारी उम्र बढ़ने की प्रक्रिया के साथ होती है।

संवाद (बातचीत) में बाधक

शोरगुल हमारे ‘बातचीत’ में भी हस्तक्षेप करता है। अगर शोरगुल और बातचीत दोनों एक साथ हों, तो दोनों में से कोई एक ध्वनि हमें सुनाई नहीं देती है। कई महत्वपूर्ण परिस्थितियों में शोरगुल बातचीत में बाधा डाल सकती है:

• व्यावसायिक स्थानों पर जहाँ कामगारों को चेतावनी के संकेत या चिल्लाने की आवाज़ न सुन पाने के कारण चोट लग सकती है।

• कार्यालयों, स्कूलों और घरों में जहाँ शोरगुल झुंझलाहट/परेशानी का एक प्रमुख कारण है।

नींद में खलल पड़ना

शोरगुल नींद में दखल दे सकता है और सो रहे लोगों को जगा सकता है, खासकर नवजात शिशुओं, वृद्ध आदि लोगों को।

झुंझलाहट

शोरगुल से होने वाली झुंझलाहट को उससे उत्पन्न होने वाली नाराजगी की भावना के रूप में परिभाषित किया जा सकता है। शोर से होने वाली झुंझलाहट शोर के शुरुआत होने के कुछ समय के बाद भी हो सकती है। उदाहरण के लिए, अगर कोई लाउडस्पीकर आपके घर के पास 1 महीने से भी अधिक समय तक बजता है, तो एक समय के बाद आपको झुंझलाहट हो सकती है। हालांकि, हरेक व्यक्ति को शोर से होने वाली झुंझलाहट अलग-अलग कारणों पर निर्भर होता है, जैसे शोर के प्रति संवेदनशीलता या उसे सहन करने की क्षमता, आदि। उदाहरण के लिए, आप अपने घर के पास एक स्पीकर से आने वाले शोर या आवाज़ को तो सहन कर सकते हैं, लेकिन आपके बुजुर्ग दादा-दादी उसे शायद सहन नहीं कर सकते हैं।

काम-काज पर असर

शोर किसी व्यक्ति के ध्यानपूर्वक कार्य करने की क्षमता (अलर्टनेश) में बाधक हो सकता है और उसकी कार्य-क्षमता को बढ़ा या घटा सकता है। उदाहरण के लिए, चौकन्ना होकर कार्य करना, सूचना-संग्रह और विश्लेषण जैसी मानसिक गतिविधियाँ शोरगुल से प्रभावित हो सकती हैं।

शारीरिक क्रियाओं पर पड़ने वाला प्रभाव

‘रक्त वाहिकाओं’ पर शोर का अच्छा-खासा प्रभाव पड़ता है, खासकर छोटी वाली वाहिकाएं जिसे प्रिकैपिलियरी वेसेल्स कहते हैं। कुल मिलाकर, शोर इन रक्त वाहिकाओं को संकरा बना देता है। शोर के कारण पैर की उंगलियों, हाथ की उंगलियों, त्वचा और पेट के अंगों में जाने वाली रक्त वाहिकाएं (पेरिफेरल बल्ड वेसेल्स) सिकुड़ जाती हैं, जिससे शरीर के इन अंगों में सामान्य रूप से आपूर्ति की जाने वाली खून की मात्रा कम हो जाती है। रक्त वाहिकाएं जो मस्तिष्क को खून पहुँचाती है वह शोर के कारण फैलकर चौड़ी हो जाती हैं। यही कारण है कि लगातार तेज आवाज सुनने से सिरदर्द होता है। इन सबसे होने वाली कुछ स्वास्थ्य समस्याएं इस प्रकार हैं:

• गल्वानिक स्किन रेस्पोंस (GSR)-यह पसीने की ग्रंथियों से उत्पन्न होने वाला एक प्रकार का शारीरिक परिवर्तन है जो भावनात्मक स्थिति की तीव्रता को दर्शाता है। यह भावनात्मक स्थिति ध्वनि प्रदूषण के कारण भी संभव है।

• अल्सर से संबंधित गतिविधि में वृद्धि। लंबे समय तक चलने वाला शोर पेट में अल्सर की संभावना को बढ़ा सकता है, क्योंकि ध्वनि प्रदूषण गैस्ट्रिक जूस के प्रवाह को कम कर सकता है और पेट की अम्लता (एसिडिटी) को बदल सकता है।

• आंतों की गतिशीलता (मूवमेंट) में बदलाव आना जो कि पाचन तंत्र और उसके भीतर के भोज्य पदार्थों के चाल में कमी।

• कंकाल पेशी में तनाव का बदल जाना। दूसरे शब्दों में, मांसपेशियों के संकुचन/सिकुड़न से होने वाले दबाव में परिवर्तन होता है।

• ऊँची आवाज़ से संबंधित व्यक्तिपरक प्रतिक्रिया और चिड़चिड़ापन की धारणा

• सुगर, कोलेस्ट्रॉल और एड्रिनेलिन का बढ़ जाना

• हृदय गति में परिवर्तन होना

• रक्तचाप (बी.पी.) का बढ़ जाना

• वाहिकासंकीर्णन/रक्त वाहिकाओं में सिकुड़न। दूसरे शब्दों में, रक्त वाहिकाओं का सिकुड़ जाना जिससे शरीर का रक्तचाप (ब्लड प्रेशर) बढ़ जाता है। शोरगुल न केवल जागते समय सेहत के लिए हानिकारक होता है, बल्कि सोते समय या अचेतन स्थिति में भी शरीर पर इसका प्रभाव पड़ सकता है।

तनाव

शोर कई तरह से तनाव पैदा कर सकता है, जिसमें सिरदर्द, चिड़चिड़ापन, अनिद्रा, पाचन विकार, और मनोवैज्ञानिक विकार शामिल हैं। उदाहरण के लिए, लगातार तेज आवाज़ या शोरगुल में रहने से आपको थकान हो सकता है।

अजन्मे शिशुओं और बच्चों पर प्रभाव

पेट में पलने वाला बच्चा शोरगुल से पूरी तरह सुरक्षित नहीं होता है। शोर से बच्चे के विकास को जोखिम हो सकता है, जैसे कि जन्म के समय बच्चे का वजन कम होना या ज्यादा होना। शोरगुल वयस्कों या युवाओं को उतना प्रभावित नहीं करता है, लेकिन बच्चों पर इसका खासा प्रभाव पर सकता है, क्योंकि बच्चे अधिक संवेदनशील होते हैं। ध्वनि प्रदूषण के कारण बच्चों की पढ़ने की क्षमता, बोलने की क्षमता, भाषा और भाषा संबंधी कौशल प्रभावित हो सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

क्या आपके पास कोई कानूनी सवाल है जो आप हमारे वकीलों और वालंटियर छात्रों से पूछना चाहते हैं?

Related Resources

ध्वनि प्रदूषण के स्रोत

ध्वनि प्रदूषण काफी हद तक औद्योगीकरण, शहरीकरण और आधुनिक सभ्यता की उपज है। ध्वनि प्रदूषण के दो स्रोत हैं-पहला: औद्योगिक और दूसरा: गैर-औद्योगिक। औद्योगिक स्रोत में विभिन्न उद्योगों से होने वाला शोर और बहुत तेज़ गति एवं तेज़ आवाज़ से काम करने वाली बड़ी मशीनें शामिल हैं।  गैर-औद्योगिक स्रोत में परिवहन, विभिन्न प्रकार के वाहन, […]

उत्पाद दायित्व क्या होता है?

उत्पाद में सेवा में कमी पाये जाने पर ग्राहक को हुए नुकसान की भरपाई के लिए उत्पाद निर्माता या विक्रेता की जिम्मेदारी को रेखांकित करती है।

ध्वनि-प्रदूषण की शिकायत दर्ज कराना

अगर कोई शोर हो रहा है जिससे आपको झुंझलाहट होती है, या बेचैनी या कोई चोट लगती है, तो आप नीचे दिए गए अधिकारियों के पास शिकायत दर्ज करा सकते हैं।

कर में कटौती

कटौती एक व्यय है जिसे किसी व्यक्ति की सकल कुल आय से घटाया जाता है ताकि उस धनराशि को कम किया जा सके जिस पर कर लगाया जा रहा है। यह कटौती आय की राशि से कम, अधिक या उसके बराबर हो सकती है। यदि कटौती योग्य राशि आय की राशि से अधिक है तो […]

रैगिंग रोकने के लिए संस्थानों के कर्तव्य

सभी कॉलेजों / विश्वविद्यालयों को परिसर के भीतर और बाहर, दोनों जगहों पर रैगिंग खत्म करने के लिए सभी उपाय करने होंगे।
Crimes and Violence

ध्वनि प्रदूषण क्या है?

जब यह एक निश्चित सीमा से ऊपर चला जाता है, तो इसे ध्वनि प्रदूषण के साथ-साथ सार्वजनिक परेशानी के रूप में भी देखा जाता है।