सेना को क्या और क्या नहीं करना चाहिए

आखिरी अपडेट Sep 19, 2022

सुप्रीम कोर्ट के दिशानिर्देशों के अनुसार, कुछ ऐसे कार्य हैं जो सेना को करने चाहिए, और कुछ ऐसे कार्य है, जो निषिद्ध हैं। सुप्रीम कोर्ट के ये दिशानिर्देश इस प्रकार हैं:

सेना को क्या करना चाहिए?

ऑपरेशन से पहले

  • सेना को केवल ‘अशांत क्षेत्र’ घोषित क्षेत्रों में ही अभियान चलाना चाहिए।
  •  केवल JCO (जूनियर कमीशंड अफसर), WO (वारंट अफसर) और NCO (गैर-कमीशन अफसर) को छूट है कि वो गोली चला सकता है या वह किसी को गिरफ्तार कर सकता है।
  • सेना को किसी भी छापे या तलाशी करने से पहले, स्थानीय नागरिक अधिकारियों से जानकारी प्राप्त करनी होती है।
  • सेना को ऐसी छापेमारी के दौरान नागरिक प्रशासन से एक प्रतिनिधि रखने की कोशिश करनी चाहिए।

ऑपरेशन के दौरान

  • खुली फायरिंग संदिग्ध को चेतावनी देने के बाद ही की जा सकती है।
  • सेना को यह सुनिश्चित करना होगा कि व्यक्ति कानून और व्यवस्था का उल्लंघन कर रहा है। तभी वे खुले रूप में गोली चला सकते हैं।
  • सेना को उन लोगों को गिरफ्तार करना चाहिए:
    • जिन्होंने संज्ञेय अपराध किए हैं, या
    • जो संज्ञेय अपराध करने वाले हैं, या
    • व्यक्ति (व्यक्तियों) जिनके खिलाफ यह साबित करने के लिए उचित आधार मौजूद हैं कि उन्होंने संज्ञेय अपराध किए हैं या करने वाले हैं।
  • सेना को निम्नलिखित निर्देशों को ध्यान में रखना चाहिए:
    • सेना को निर्दोष लोगों को परेशान नहीं करना चाहिए।
    • सेना को जनता की संपत्ति को नष्ट नहीं करना चाहिए।
    • सेना को उन लोगों के घरों में अनावश्यक रूप से प्रवेश नहीं करना चाहिए जो किसी भी गैरकानूनी गतिविधियों से जुड़े नहीं हैं।
  • महिला पुलिस की मौजूदगी के बिना महिलाओं को गिरफ्तार नहीं किया जाना चाहिए। महिलाओं की तलाशी सिर्फ महिला पुलिस को ही करनी चाहिए।

छानबीन/ऑपरेशन के बाद

  • सेना को गिरफ्तार व्यक्तियों की सूची बनानी चाहिए।
  • गिरफ्तार किए गए व्यक्तियों को जितना जल्दी हो सके निकटतम पुलिस थाने को सौंपा जाए तथा गिरफ्तार किए गए व्यक्तियों के साथ विस्तृत पुलिस रिपोर्ट भी पुलिस थाने को दी जाए।
  • यदि पुलिस को संदिग्धों को सौंपने में कोई देरी होती है, तो इसे सेना द्वारा न्यायोचित किया जाना चाहिए और स्थिति के आधार पर इसे 24 घंटे तक बढ़ाया जा सकता है।
  • छापेमारी के बाद हथियारों, गोला-बारूदों और अन्य सामग्रियों की सूची बनाकर जब्ती ज्ञापन के साथ थाने को सौंप दी जानी चाहिए।
  • सेना को निम्नलिखित का रिकॉर्ड बनाना होता है:
    • वह क्षेत्र जहां ऑपरेशन शुरू किया गया है।
    • ऑपरेशन की तारीख और समय। इस तरह की छापेमारी में शामिल लोग।
    • इस तरह की छापेमारी में शामिल लोग।
    • सेना में शामिल कमांडर और अन्य अधिकारियों/जेसीओ/एनसीओ का रिकॉर्ड।
  • मुठभेड़ के दौरान घायल हुए किसी भी व्यक्ति को चिकित्सा राहत दी जानी चाहिए और यदि व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है, तो शव को तुरंत पुलिस को सौंप दिया जाना चाहिए।

सिविल न्यायालय के साथ डील करने के दौरान

  • उच्चतम न्यायालय या उच्च न्यायालय द्वारा दिए गए सभी निर्देशों का पालन किया जाना चाहिए।
  • यदि किसी सैन्यकर्मी को न्यायालय द्वारा तलब किया जाता है:
    • मर्यादा बनाए रखी जानी चाहिए और न्यायालय को उचित सम्मान दिया जाना चाहिए।
    • प्रश्नों का उत्तर विनम्रता और गरिमा के साथ देना चाहिए।
    • पूरे प्रचालन का विस्तृत रिकॉर्ड रखा जाना चाहिए।
    • जानकारी सही और स्पष्ट होनी चाहिए।

सेना को क्या नहीं करना चाहिए?

  • किसी व्यक्ति को आवश्यकता से अधिक समय तक हिरासत में नहीं रखा जाना चाहिए और उसे निकटतम पुलिस स्टेशन को सौंप देना चाहिए। किसी गिरफ्तार व्यक्ति पर कोई बल प्रयोग नहीं किया जाना चाहिए, सिवाय इसके कि अगर वे भागने की कोशिश कर रहे हों।
  •  थर्ड-डिग्री मेथड्स, वे तरीके हैं जिससे दर्द और पीड़ा होती है, इसलिए इनका इस्तेमाल गिरफ्तार या संदेह के तहत उनसे जानकारी या स्वीकारोक्ति निकालने के लिए नहीं किया जाना चाहिए।
  • सशस्त्र बलों को केवल एक व्यक्ति को गिरफ्तार करना चाहिए।
  • उन्हें किसी भी प्रकार की पूछताछ नहीं करनी चाहिए। अगर किसी व्यक्ति को रिहा किया जाना है, तो यह नागरिक अधिकारियों के माध्यम से किया जाना चाहिए।
  • सरकारी अभिलेखों के साथ छेड़छाड़ नहीं होनी चाहिए।
  • सिविल पुलिस को सौंपे जाने के बाद सशस्त्र बल किसी व्यक्ति को वापस नहीं ले सकती।

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

क्या आपके पास कोई कानूनी सवाल है जो आप हमारे वकीलों और वालंटियर छात्रों से पूछना चाहते हैं?

Related Resources

रैगिंग रोकने के लिए संस्थानों के कर्तव्य

सभी कॉलेजों / विश्वविद्यालयों को परिसर के भीतर और बाहर, दोनों जगहों पर रैगिंग खत्म करने के लिए सभी उपाय करने होंगे।
Crimes and Violence

उत्पाद दायित्व क्या होता है?

उत्पाद में सेवा में कमी पाये जाने पर ग्राहक को हुए नुकसान की भरपाई के लिए उत्पाद निर्माता या विक्रेता की जिम्मेदारी को रेखांकित करती है।

न्यायालय के प्रति एक एडवोकेट का कर्तव्य

एक एडवोकेट को न्यायालयों में पेशेवर आचरण और शिष्टाचार के कुछ मानकों को बनाए रखना होता है।

किसी डॉक्टर के सामान्य कर्तव्य

ऊपर दिए गए कर्तव्यों के अलावा एक डॉक्टर के कुछ सामान्य कर्तव्य भी होते हैं, जिनमें शामिल हैं:

रैगिंग के लिए सज़ा

यदि कोई छात्र किसी अन्य छात्र की रैगिंग करते पकड़ा जाता है, तो उसे दंडित किया जा सकता है। अधिक जानकारी के लिए इस सरकारी संसाधन को पढ़ें |
Crimes and Violence

पंजीकृत फार्मासिस्टों का मरीजों के प्रति कर्तव्य

ग्राहकों की मदद करते समय, फार्मासिस्टों के कुछ कर्तव्य हैं: