चेक बाउंस होने से बचने के लिए ग्राहकों द्वारा बरती जाने वाली सावधानियां

आखिरी अपडेट Aug 11, 2022

एक ग्राहक के रूप में चेक बाउंस होने से बचने के लिए चेक जारी करने वाले को निम्न बातों पर ध्यान देना चाहिए:

• सुनिश्चित करें कि चेक पर सीटीएस 2010 लिखा हुआ है।

• चेक लिखते समय बेहतर है कि इमेज-फ्रेंडली रंगीन स्याही, जैसे नीले या काले रंग की स्याही का प्रयोग करें। हरे और लाल रंग की स्याही का प्रयोग करने से बचें।

• चेक लिखने के बाद आपको किसी भी प्रकार के परिवर्तन/सुधार से भी बचना चाहिए। यदि आपको कोई परिवर्तन या सुधार करने की आवश्यकता है तो एक नया चेक लीफ का उपयोग करें, क्योंकि हो सकता है कि चेक इमेज़ बेस्ड क्लियरिंग सिस्टम के द्वारा पास किया जाय, और किसी भी प्रकार के परिवर्तन के कारण चेक क्लियरिंग में फेल हो जाय।

• सुनिश्चित करें कि चेक पर आपके हस्ताक्षर वही हैं जो बैंक रिकॉर्ड में हैं। अन्यथा, आपका चेक अस्वीकृत हो सकता है और बैंक आपको दंडित कर सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

क्या आपके पास कोई कानूनी सवाल है जो आप हमारे वकीलों और वालंटियर छात्रों से पूछना चाहते हैं?

Related Resources

कर में कटौती

कटौती एक व्यय है जिसे किसी व्यक्ति की सकल कुल आय से घटाया जाता है ताकि उस धनराशि को कम किया जा सके जिस पर कर लगाया जा रहा है। यह कटौती आय की राशि से कम, अधिक या उसके बराबर हो सकती है। यदि कटौती योग्य राशि आय की राशि से अधिक है तो […]

कर लगाने योग्य आय की गणना

आपकी आय के आधार पर आयकर विभाग नीचे दी गई श्रेणियों के अनुसार कर लगाता है। इस तरह से की गणना की गई कुल आय को सकल कुल आय कहा जाता है।

रैगिंग रोकने के लिए संस्थानों के कर्तव्य

सभी कॉलेजों / विश्वविद्यालयों को परिसर के भीतर और बाहर, दोनों जगहों पर रैगिंग खत्म करने के लिए सभी उपाय करने होंगे।
Crimes and Violence

नये पैन नंबर पाने के लिए प्रक्रिया

आप पैन नंबर के लिए ऑनलाइन या व्यक्तिगत रूप से आवेदन कर सकते हैं।पैन नंबर के लिए ऑनलाइन आवेदन करने की प्रक्रियाप्रक्रिया इस प्रकार है |

रैगिंग माने जाने वाले कृत्य

छात्रों के अनेक कृत्‍यों को कानून के तहत रैगिंग माना जाता है। रैगिंग के रूप में माने जाने वाले कुछ कृत्‍य हैं |
Crimes and Violence

ध्वनि प्रदूषण के स्रोत

ध्वनि प्रदूषण काफी हद तक औद्योगीकरण, शहरीकरण और आधुनिक सभ्यता की उपज है। ध्वनि प्रदूषण के दो स्रोत हैं-पहला: औद्योगिक और दूसरा: गैर-औद्योगिक। औद्योगिक स्रोत में विभिन्न उद्योगों से होने वाला शोर और बहुत तेज़ गति एवं तेज़ आवाज़ से काम करने वाली बड़ी मशीनें शामिल हैं।  गैर-औद्योगिक स्रोत में परिवहन, विभिन्न प्रकार के वाहन, […]