टैक्स रिटर्न न भरने पर जुर्माना

आखिरी अपडेट Sep 2, 2022

यदि आप अपना इनकम टैक्स रिटर्न दाखिल नहीं करते हैं या आप दाखिल करने में देरी करते हैं, तो आपको आयकर विभाग द्वारा अर्थदंड का सामना करना पड़ेगा। ऐसी आय की रिटर्न जो निर्दिष्ट नियत तारीख को या उससे पहले नहीं भरी गई है, विलम्बित या बिलेटेड रिटर्न कहलाती है।

यदि आपको आय की रिटर्न भरने की आवश्यकता है और निर्धारित समय के भीतर आप इसे नहीं भर पाते हैं, तो आपको देय टैक्स पर ब्याज का भुगतान करना होगा। कोई भी व्यक्ति जिसने समयसीमा के भीतर अपना टैक्स रिटर्न दाखिल नहीं किया है, वह किसी भी पिछले वर्ष में या किसी भी समय में रिटर्न भर सकता है। (जो भी पहले हो):

• प्रासंगिक निर्धारण वर्ष की समाप्ति होने तक या

• आकलन पूरा होने तक।

जुर्माना शुल्क या राशि

आप यहां आयकर से संबंधित अपराधों के लिए जुर्माना और दंड की विस्तृत सूची प्राप्त कर सकते हैं। कुछ अपराध नीचे दिए गए हैं:

रिटर्न दाखिल करने में देरी करना।

इनकम रिटर्न करने में चूक के लिए आपको जो शुल्क देना होगा, वह इस प्रकार से है:

• 5000 रू, अगर रिटर्न निर्धारण वर्ष के दिसंबर के 31 वें दिन या उससे पहले भर दिया जाता है।

• किसी अन्य मामलों में 10,000 रू.। हालांकि, अगर करदाता की कुल आय 5 लाख रुपये से अधिक नहीं है, तो लेट फाइलिंग शुल्क 1000 रुपये से अधिक नहीं होगा।

टैक्स का भुगतान न करना/टैक्स रिटर्न दाखिल नहीं करना

यदि आप टैक्स का भुगतान नहीं करते हैं या अपना आयकर रिटर्न दाखिल नहीं करते हैं तो आपको ब्याज, जुर्माना और यहां तक ​​कि मुकदमा का सामना करना पड़ेगा (अदालत में जाना पड़ सकता है)। अभियोजन पक्ष (प्रॉसिक्यूशन) को 3 महीने से 2 साल तक के कठोर कारावास की सजा हो सकती है। उन स्थितियों में जहां 25,00,000 रुपये से अधिक की टैक्स चोरी पकड़ी जाती है, तो प्रॉसिक्यूशन को यह सजा 6 महीने से 7 साल तक की हो सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

क्या आपके पास कोई कानूनी सवाल है जो आप हमारे वकीलों और वालंटियर छात्रों से पूछना चाहते हैं?

Related Resources

टैक्स रिटर्न (आई.टी.आर) भरने की समय सीमा

पिछला वित्तीय वर्ष 2018-19 के लिए विलंबित और/या रिवाइज्ड टैक्स रिटर्न दाखिल करने की समय सीमा 31 जुलाई, 2020 है।

शिकायत/ सहायता और समर्थन

नीचे पोर्टल और हेल्पलाइन नंबर दिए गए हैं, जिनका उपयोग आप शिकायत दर्ज करने, उनका निदान करने, पूछताछ करने, और समर्थन मांगने के लिए कर सकते हैं।

इनकम टैक्स रिटर्न या फॉर्म (आई.टी.आर)

किसी व्यक्ति द्वारा एक वित्तीय वर्ष में अर्जित आय और ऐसी आय पर भुगतान किए गए टैक्स की जानकारी को आयकर विभाग में सूचित किया जाता है।

रिवाइज्ड रिटर्न भरने की प्रक्रिया

ऑफलाइन मोड के लिए, आपको आयकर विभाग के ई-फाइलिंग पोर्टल से उचित आईटीआर फॉर्म डाउनलोड करना होगा।

कर लगाने योग्य आय की गणना

आपकी आय के आधार पर आयकर विभाग नीचे दी गई श्रेणियों के अनुसार कर लगाता है। इस तरह से की गणना की गई कुल आय को सकल कुल आय कहा जाता है।

शैक्षणिक संस्थानों में धूम्रपान

किसी भी शैक्षणिक संस्थान को ऐसे स्थान या केंद्र के रूप में परिभाषित किया जाता है जहां शिक्षा प्रदान की जाती है, और इसमें स्कूल, कॉलेज, उच्च शिक्षा के संस्थान आदि, शामिल हैं।