सीबीएफसी कार्रवाई

आखिरी अपडेट Aug 29, 2022

अगर आप किसी थिएटर में आम लोगों को फिल्म/मूवी दिखाना चाहते हैं, तो आपको सर्टिफिकेट के लिए सीबीएफसी के पास आवेदन करना होगा। सिनेमैटोग्राफ के नियम 21 में आवेदन दाखिल करने की प्रक्रिया की विस्तृत सूचना दी गई है। बोर्ड फिल्म की जांच करता है, और उसे आपकी बात भी सुननी होती है। फिर, यह निम्न में से कोई एक कार्रवाई कर सकता है:

• 4 प्रमाणपत्रों में से एक के साथ फिल्म को रिलीज करना:

  •  यू (अप्रतिबंधित), यानी कोई भी फिल्म देख सकता है
  •  यू/ए (अप्रतिबंधित लेकिन वयस्क की निगरानी में), जिसका अर्थ है कि कोई भी फिल्म देख सकता है लेकिन माता-पिता को 12 साल से कम उम्र के बच्चों को इसे देखने की अनुमति देने में सावधानी बरतनी चाहिए
  •  ए (केवल वयस्क), जिसका अर्थ है कि केवल वयस्क ही फिल्म देख सकते हैं
  •  एस, एक असामान्य प्रमाणपत्र है, जिसका अर्थ है कि केवल कुछ पेशेवर, जैसे डॉक्टर या वैज्ञानिक ही फिल्म देख सकते हैं

• बोर्ड द्वारा प्रमाणित किए जाने से पहले फिल्म निर्माता को उपरोक्त चार प्रमाणपत्रों में से एक का इस्तेमाल करके फिल्म में बदलाव करने के लिए कहना।

• फिल्म को प्रमाणित करने से बिल्कुल मना करना। फिल्म रिलीज नहीं हो सकती है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

क्या आपके पास कोई कानूनी सवाल है जो आप हमारे वकीलों और वालंटियर छात्रों से पूछना चाहते हैं?

Related Resources

उत्पाद दायित्व क्या होता है?

उत्पाद में सेवा में कमी पाये जाने पर ग्राहक को हुए नुकसान की भरपाई के लिए उत्पाद निर्माता या विक्रेता की जिम्मेदारी को रेखांकित करती है।

शिकायत दर्ज करने की प्रक्रिया

इस सबके बावजूद, शिकायत का समाधान न होने पर, आप उपभोक्ता मंचों से संपर्क हेतु किसी वकील की मदद ले सकते हैं।

आचार-संहिता (एमसीसी) के उल्लंघन का क्या परिणाम है?

आचार-संहिता के लागू होते ही चुनाव आयोग सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है, और उसके उल्लंघन को रोकने के लिए तत्काल कार्रवाई करती है।

फार्मासिस्टों द्वारा दुराचार

एक पंजीकृत फार्मासिस्ट के कार्य, जो दुराचार की श्रेणी में आएंगे और जिन कार्यों के खिलाफ शिकायत की जा सकती है, उनमें शामिल हैं:

चुनाव प्रचार के दौरान उम्मीदवार का आचरण

सभी राजनीतिक दलों और उम्मीदवारों को ऐसी गतिविधियों से बचना चाहिए जो मतदाताओं और अन्य उम्मीदवारों को प्रभावित करती हैं |

रैगिंग विरोधी कानून के तहत नियुक्त अधिकारी

रैगिंग को रोकने के लिए, प्रत्येक कॉलेज और विश्वविद्यालय को निम्नलिखित प्राधिकारणों  का गठन करना चाहिये ऍण्‍टी-रैगिंग कमेटी |
Crimes and Violence