विवाह का अपरिवर्तनीय टूटना एक ऐसी स्थिति को संदर्भित करता है जहां एक या दोनों पति-पत्नी बिना किसी की गलती के एक साथ रहने में असमर्थ होते हैं। विवाह संस्था की रक्षा के लिए यह अभी तक हिंदू कानून के तहत तलाक का आधार नहीं है। हालांकि, कुछ अदालतों ने इसे तलाक का आधार माना है।

हिंदू विवाह में तलाक के लिए कब फाइल कर सकते हैं

आखिरी अपडेट Sep 29, 2022

आप तलाक का मामला तभी दायर कर सकते हैं जब आपके पास हिंदू कानून में मान्यता प्राप्त कोई कारण हो। ये कारण आपके जीवनसाथी द्वारा दुर्व्यवहार से लेकर मानसिक विकार से पीड़ित आपके जीवनसाथी तक हो सकते हैं।

भारत में, कानून विशिष्ट कारणों का प्रावधान करता है जिसके तहत आप तलाक के लिए केस फाइल कर सकते हैं।

दुर्व्यवहार

• जब आपका जीवनसाथी आपके प्रति क्रूरता कर रहा हो।

• जब आपके पति या पत्नी ने किसी अन्य व्यक्ति के साथ संभोग किया हो।

• जब आपके जीवनसाथी ने आपको छोड़ दिया हो।

बीमारी 

• जब आपका जीवनसाथी किसी यौन रोग से पीड़ित हो जो आपको भी लग सकता है।

• जब आपके जीवनसाथी को कोई मानसिक विकार हो।

जीवनसाथी की अनुपस्थिति 

• जब आपका जीवनसाथी आपसे अलग हो गया हो।

• जब आपके पति या पत्नी को 7 साल या उससे अधिक समय से मृत मान लिया गया हो।

• जब आपके जीवनसाथी ने किसी धार्मिक व्यवस्था में प्रवेश कर संसार का त्याग कर दिया हो।

• जब आप और आपके पति या पत्नी एक वर्ष से अधिक समय तक एक साथ वापस नहीं आए हैं, तब भी जब न्यायालय द्वारा न्यायिक पृथक्करण की डिक्री पारित की गई हो।

• न्यायालय द्वारा आपको या आपके जीवनसाथी को आपके वैवाहिक दायित्वों को फिर से शुरू करने के लिए कहने का आदेश पारित करने के बाद भी, एक वर्ष से अधिक समय से कोई भी दायित्व पूरा न किया गया हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

क्या आपके पास कोई कानूनी सवाल है जो आप हमारे वकीलों और वालंटियर छात्रों से पूछना चाहते हैं?

Related Resources

उपभोक्ता शिकायत मंच

उपभोक्ता संरक्षण कानून संबद्ध प्राधिकरणों को निर्दिष्‍ट करता है कि कोई उपभोक्ता-अधिकारों का उल्‍लंघन होने पर उनसे संपर्क कर सकता है।

शिकायत दर्ज करने की प्रक्रिया

इस सबके बावजूद, शिकायत का समाधान न होने पर, आप उपभोक्ता मंचों से संपर्क हेतु किसी वकील की मदद ले सकते हैं।

ऑनलाइन बैंक धोखाधड़ी को रोकने के लिए बैंकों की जिम्मेदारी

बैंकों को अपने ग्राहकों को इलेक्ट्रॉनिक बैंकिंग लेनदेन के लिए अनिवार्य रूप से एसएमएस अलर्ट के लिए पंजीकरण करने के लिए कहना चाहिए।

उपभोक्ता शिकायतों के प्रकार

उपभोक्ता संरक्षण कानून के तहत प्रत्येक व्यक्ति को निम्नलिखित प्रकार की उपभोक्ता शिकायतें दर्ज करने का अधिकार है |

ग्राहक दायित्व

ग्राहक को किसी तीसरे पक्ष के साथ भुगतान क्रेडेंशियल प्रकट नहीं करना चाहिए। यदि कोई ग्राहक ऐसा करता है तो लापरवाह के कारण देनदारी बढ़ जाएगी।

ई-कॉमर्स प्लैटफॉर्म के खिलाफ उपभोक्ता शिकायतें

खुदरा विक्रेताओं के माध्यम से खरीदे गए डिजिटल और अन्य उत्पादों से जुड़े अनुचित व्यापार व्‍यवहारों के खिलाफ भी शिकायत कर सकते हैं।