बिजली की चोरी

आखिरी अपडेट Sep 6, 2022

बिजली की चोरी तब होती है जब कोई मीटर से छेड़छाड़ करता है, व बिजली के मीटर या उपकरण आदि को नुकसान पहुंचाता है।

बिजली चोरी के लिए सजा

• बिजली की चोरी के लिए सजा 3 साल तक की जेल और/या जुर्माना है।

यदि चोरी की गई बिजली की मात्रा 10 किलोवाट से अधिक नहीं है, तो पहले अपराध पर जुर्माना चोरी से होने वाले वित्तीय लाभ का कम से कम 3 गुना होगा, और उसके बाद की दोषसिद्धि पर 6 गुना होगा।

चोरी की गई राशि 10 किलोवाट से अधिक होने पर, जुर्माने के अलावा, 6 महीने से 5 साल तक की जेल की सजा हो सकती है। इस मामले में, किसी को भी 3 महीने से 2 साल के बीच की अवधि के लिए बिजली आपूर्ति प्राप्त करने से वंचित कर दिया जाएगा।

• यदि कोई उपभोक्ता बिजली की चोरी का दोषी पाया जाता है तो, बिजली के आपूर्तिकर्ता बिना नोटिस जारी किए बिजली की आपूर्ति में कटौती कर सकते हैं, और यह आपूर्ति तभी बहाल की जाएगी जब उपभोक्ता जुर्माना अदा कर देगा और आपूर्तिकर्ता के नुकसान की भरपाई कर देगा।

बिजली चोरी की शिकायत

बिजली चोरी की शिकायत करने के लिए, आपको अपने राज्य में संबंधित बिजली प्रदान करने वाले बोर्ड/निगम से संपर्क करना होगा। उदाहरण के लिए, दिल्ली के लिए, आप बीएसईएस राजधानी (BSES Rajdhani) में शिकायत दर्ज कर सकते हैं, आप समस्या से संबंधित जानकारी 9555010022 पर जमा करने के लिए व्हाट्सएप का भी उपयोग कर सकते हैं। बीएसईएस राजधानी में शिकायत कैसे दर्ज करें, यह देखने के लिए यहां और पढ़ें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

क्या आपके पास कोई कानूनी सवाल है जो आप हमारे वकीलों और वालंटियर छात्रों से पूछना चाहते हैं?

Related Resources

चोरी के प्रकार

चोरी के कई अन्य रूप हैं और कानून उन लोगों को दंडित करता है, जो स्थिति के आधार पर चोरी करते हैं, और साथ ही वे कौन हैं, इस पर निर्भर करते हैं।
Crimes and Violence

कर में कटौती

कटौती एक व्यय है जिसे किसी व्यक्ति की सकल कुल आय से घटाया जाता है ताकि उस धनराशि को कम किया जा सके जिस पर कर लगाया जा रहा है। यह कटौती आय की राशि से कम, अधिक या उसके बराबर हो सकती है। यदि कटौती योग्य राशि आय की राशि से अधिक है तो […]

रैगिंग के लिए सज़ा

यदि कोई छात्र किसी अन्य छात्र की रैगिंग करते पकड़ा जाता है, तो उसे दंडित किया जा सकता है। अधिक जानकारी के लिए इस सरकारी संसाधन को पढ़ें |
Crimes and Violence

उपभोक्ता अधिकारों के उल्‍लंघन के लिए दंड

उपभोक्ता अधिकारों के उल्‍लंघन के लिए किसी व्यक्ति या संस्था को दंडित करने की शक्ति केंद्रीय उपभोक्ता संरक्षण प्राधिकरण के पास होती है।

सार्वजनिक उपयोगिता सेवाएं क्या हैं

सार्वजनिक उपयोगिता सेवाएं सरकार द्वारा प्रदान की जाने वाली सुविधाएं हैं, जो नागरिकों के लिए आवश्यक सेवाएं होती हैं।

चोरी क्या है?

जब कोई व्यक्ति बैमानी के इरादे से आपकी अनुमति के बिना आपकी संपत्ति ले लेता है तो उसे चोरी कहते हैं। चोरी भारत में एक अपराध है और ऐसा करने वाले व्यक्ति को 3 साल तक की जेल और/या जुर्माने से दंडित किया जा सकता है। चोरी एक संज्ञेय (कोग्निजेबल) और गैर-जमानती अपराध है। निम्न […]
Crimes and Violence