सूचना को रोके रखने के लिये या गलत सूचना देने के लिए जुर्माना लगाया जा सकता है

आखिरी अपडेट Jul 13, 2022

केंद्रीय या राज्य सूचना आयोग एक पीआईओ पर जिसने सूचना को रोके रक्खा था या गलत सूचना दी थी, उस पर 250 रूपये का दैनिक जुर्माना लगा सकता है। सूचना दिये जाने के दिन तक, इस जुर्माने का भुगतान करना होगा। जुर्माने की अधिकतम राशि फिर भी 25,000 रुपये से ज्यादा नहीं हो सकती है।

एक ‘पीआईओ’ को, जुर्माने का फैसला करने के पहले, अपने मामला को पेश करने का मौका दिया जाना चाहिए, फिर भी यह सिद्ध करने की जिम्मेदारी उनके ऊपर है कि उन्होंने कानूनी तरीके से काम किया है। एक ‘पीआईओ’ के खिलाफ, उनके सेवा नियमों के अनुसार अनुशासनात्मक कार्रवाई भी की जा सकती है।

Comments

    Pratibha

    January 23, 2024

    English
    English to Tagalog
    Apps
    English spanish
    Hindi
    English to French
    English to Tamil
    English to Urdu
    Camera
    Photo
    मराठी मध्ये शोधा
    गूगल ट्रान्सलटे

    English – detected
    Hindi
    To,
    The education officer,
    Zila Parishad,
    Nanded

    Subject :Still not received salary after instructions to the school administration on 8 January,24.

    Respected sir,
    With due respect I am Pratibha Bhoge has filed the complain into your office regarding to my pending salary from the month of ……. to ……… Total due amount ₹46000/- on 8th November 2023. As per my previous written complaint at your office you had taken quick action and verbally given the strict instructions to my employer …………. school to pay my due salary amount within next 3 day’s, But the school management has refused your order by saying that you must come to school for taking your salary.
    Sir, As per the rule the school’s has been restarted by the the government to pay the salaries of employees in their perticular bank accounts and I have already given my resignation to the school management so why they are forcing me to go to there place for taking my salary physically? It clearly shows their bad intentions towards me because everyone of them knows very well that I am a single parent of my 10yrs. old daughter and I have no back hand support of any forfather I am the only earning person of my family and I have shown the dare to file a complaint against the school and I am in a deep fear now that they could take any revange from me and they could do any kind of misbehaviour with me even they could also harm me.
    So after looking towards my condition I request you to kindly issue a logical order to the school administration to deposit my pending salary into my bank account which they used to do previously and do proper justice with me.

    For your kind information I am also giving my account details with this letter as well.

    Name of account holder : Miss. Pratibha Bhoge
    Name of Bank:
    Account No. :
    Br. IFSC Code:

    Copy to

    1. Honorable District Collector, Nanded

    2. Honorable MLA. Nanded

    3. Honorable Education Minister (Govt. of Maharashtra).

    4. Honorable Chief minister (Govt. Of Maharashtra).
    को,
    शिक्षा अधिकारी,
    जिला परिषद,
    नांदेड़

    विषय :8 जनवरी 24 को स्कूल प्रशासन को निर्देश देने के बाद अभी तक वेतन नहीं मिला है।

    आदरणीय महोदय,
    पूरे सम्मान के साथ, मैं प्रतिभा भोगे ने आपके कार्यालय में ……. से ……… महीने तक मेरे लंबित वेतन के संबंध में शिकायत दर्ज की है, कुल बकाया राशि ₹46000/- 8 नवंबर को 2023. आपके कार्यालय में मेरी पिछली लिखित शिकायत के अनुसार आपने त्वरित कार्रवाई की थी और मौखिक रूप से मेरे नियोक्ता ……… स्कूल को अगले 3 दिनों के भीतर मेरी देय वेतन राशि का भुगतान करने के सख्त निर्देश दिए थे। लेकिन स्कूल प्रबंधन ने यह कहकर आपके आदेश को अस्वीकार कर दिया कि आपको अपना वेतन लेने के लिए स्कूल आना होगा।
    महोदय, नियम के अनुसार सरकार द्वारा कर्मचारियों के वेतन का भुगतान उनके विशेष बैंक खातों में करने के लिए स्कूल को फिर से शुरू किया गया है और मैंने पहले ही स्कूल प्रबंधन को अपना इस्तीफा दे दिया है, तो वे मुझे वहां जाने के लिए मजबूर क्यों कर रहे हैं? मेरा वेतन शारीरिक रूप से? यह स्पष्ट रूप से मेरे प्रति उनके बुरे इरादों को दर्शाता है क्योंकि उनमें से हर कोई अच्छी तरह से जानता है कि मैं अपने 10 साल के बच्चों की एकल माता-पिता हूं। बूढ़ी बेटी और मेरे पास किसी भी पूर्वज का समर्थन नहीं है, मैं अपने परिवार का एकमात्र कमाने वाला व्यक्ति हूं और मैंने स्कूल के खिलाफ शिकायत दर्ज करने की हिम्मत दिखाई है और मैं अब गहरे डर में हूं कि वे मुझसे कोई बदला ले सकते हैं और वे मेरे साथ किसी भी तरह का दुर्व्यवहार कर सकते थे यहां तक ​​कि वे मुझे नुकसान भी पहुंचा सकते थे।
    इसलिए मेरी स्थिति को देखने के बाद मैं आपसे अनुरोध करता हूं कि कृपया स्कूल प्रशासन को मेरा लंबित वेतन मेरे बैंक खाते में जमा करने का तार्किक आदेश जारी करें जैसा कि वे पहले करते थे और मेरे साथ उचित न्याय करें।

    आपकी जानकारी के लिए मैं इस पत्र के साथ अपने खाते का विवरण भी दे रहा हूं।

    खाताधारक का नाम: कुमारी प्रतिभा भोगे
    बैंक का नाम:
    खाता नंबर। :
    ब्र. आईएफएससी कोड:

    में कॉपी

    1. माननीय जिला कलेक्टर, नांदेड़

    2. माननीय विधायक जी. नांदेड़

    3. माननीय शिक्षा मंत्री (महाराष्ट्र सरकार)।

    4. माननीय मुख्यमंत्री (महाराष्ट्र सरकार)।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

क्या आपके पास कोई कानूनी सवाल है जो आप हमारे वकीलों और वालंटियर छात्रों से पूछना चाहते हैं?

Related Resources

उपभोक्ता अधिकार क्या होते हैं?

अपने अधिकारों के प्रति जागरूक होना उपभोक्ताओं के लिए महत्वपूर्ण है ताकि वे अपने हितों के मद्देनज़र आत्मविश्वास से अपने विकल्‍प चुन सकें।

पीड़ितों और गवाहों के अधिकार

यह विशेष कानून पीड़ितों, उनके आश्रितों और इस कानून के तहत दायर शिकायतों के गवाह के रूप में कार्य करने वालों को कुछ अधिकारों की गारंटी देता है।
citizen rights icon

इस कानून के तहत किसी व्यक्ति के क्या-क्या अधिकार हैं?

कोई भी अस्पताल या क्लिनिक विशेष सुविधाओं की कमी का बहाना देते हुए एसिड अटैक सर्वाइवर के इलाज से इनकार नहीं कर सकता।
Crimes and Violence

सूचना का अधिकार- कर

उदाहरण के लिए, यदि आप जानना चाहते हैं कि आपके टैक्स रिटर्न में देरी क्यों हो रही है, तो इसके लिए आप एक आरटीआई आवेदन दाखिल कर सकते हैं।

ईसाई कानून के तहत विवाह करने की विभिन्न प्रक्रियाएं क्या हैं?

विवाह करने वाले पक्षों में से एक नाबालिग है, तो उन्हें विवाह करने के लिए अपने पिता की सहमति की आवश्यकता होगी।

ईसाई कानून के तहत नाबालिग विवाह किस प्रकार कर सकते हैं?

ईसाई कानून के तहत, एक नाबालिग को 21 वर्ष से कम उम्र के व्यक्ति के रूप में परिभाषित किया गया है, और वह विधवा या विधुर नहीं हो।