पद या अधिकार का दुरुपयोग

आखिरी अपडेट Oct 24, 2022

ट्रिगर चेतावनी: इस लेख में शारीरिक हिंसा, यौन हिंसा के बारे में जानकारी है जो कुछ पाठकों को विचलित कर सकती है। 

यदि कोई महिला नौकरी या स्थिति के कारण किसी पुरुष के अंतर्गत कार्य करती है और वह पुरुष अपने पद का दुरूपयोग उसके साथ यौन संबंध बनाने के लिए करता है, तो यह एक अपराध है। यदि कोई व्यक्ति अपने प्रत्यय न्यासी सम्बन्ध का दुरुपयोग कर किसी भी महिला को यौन संबंध बनाने के लिए मनाने या बहकाने का प्रयास करता है, तो कानून उस व्यक्ति के लिए दंड का प्रावधान करता है। वह महिला उसके क्षेत्र, प्रभार या परिसर में मौजूद हो सकती है। इस तरह का सम्भोग को भारतीय दंड संहिता की धारा 375 के तहत एक अलग अपराध के रूप में रखा गया है। इसे बलात्कार के रूप में उल्लेख नहीं किया गया है।

वह व्यक्ति जो महिला को संभोग के लिए राजी करता है वह निम्नलिखित में से कोई भी हो सकता है:

a) आधिकारिक पद या विश्वसनीय सम्बन्ध; या

b) एक जनसेवक; या

c) जेल, रिमांड होम, हिरासत के अन्य स्थान या किसी महिला या बच्चों के संस्थान का अधीक्षक या प्रबंधक; या

d) अस्पताल के प्रबंधन या कर्मचारी।

इन मामलों में, अधिकारिक व्यक्ति को जुर्माने के साथ 5 से 10 साल की कैद की सजा हो सकती है।

उदाहरण के लिए, यदि कोई पुरुष जेल अधीक्षक किसी महिला कैदी को उसकी रिहाई दिलवाने के बदले में यौन संबंध बनाने के लिए कहता है, और इस तरह उसे यौन संबंध बनाने के लिए मना लेता है, तो वह अपनी स्थिति का दुरुपयोग कर रहा है। इस मामले में, उसने महिला के साथ जबरदस्ती नहीं किया और बलात्कार नहीं किया, बल्कि अपने स्थिति की शक्ति का उपयोग करके उसे यौन संबंध बनाने के लिए मना लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

क्या आपके पास कोई कानूनी सवाल है जो आप हमारे वकीलों और वालंटियर छात्रों से पूछना चाहते हैं?

Related Resources

एक प्राधिकारी द्वारा यौन उत्पीड़न

नीचे दी गई सूची के लोगों से, बच्चों के प्रति किये गये यौन अपराधों के लिये, कानून के तहत, काफी सख्ती से निपटा जाता है।
Crimes and Violence

उपभोक्ता शिकायतों के प्रकार

उपभोक्ता संरक्षण कानून के तहत प्रत्येक व्यक्ति को निम्नलिखित प्रकार की उपभोक्ता शिकायतें दर्ज करने का अधिकार है |

उपभोक्ता शिकायत मंच

उपभोक्ता संरक्षण कानून संबद्ध प्राधिकरणों को निर्दिष्‍ट करता है कि कोई उपभोक्ता-अधिकारों का उल्‍लंघन होने पर उनसे संपर्क कर सकता है।

उपभोक्ता अधिकार क्या होते हैं?

अपने अधिकारों के प्रति जागरूक होना उपभोक्ताओं के लिए महत्वपूर्ण है ताकि वे अपने हितों के मद्देनज़र आत्मविश्वास से अपने विकल्‍प चुन सकें।

उपभोक्ता अधिकारों के उल्‍लंघन के लिए दंड

उपभोक्ता अधिकारों के उल्‍लंघन के लिए किसी व्यक्ति या संस्था को दंडित करने की शक्ति केंद्रीय उपभोक्ता संरक्षण प्राधिकरण के पास होती है।

अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति के लोगों के खिलाफ क्रूर और अपमानजनक अत्याचार

अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति के लोगों के खिलाफ किए गए निम्न में से किसी भी अपराध को कानून ने अत्याचार माना हैछ
citizen rights icon